Aura Healing

आभामंडल हीलिंग

हर मानव के अंदर में आभामंडल होती है यह आभामंडल मानव के प्राणमय कोष के साथ एक होती है। प्राणमय कोष की ऊर्जा का कम होना बीमारियों को लाना है। अन्नमय कोश प्राणमय कोष मनोमय कोष ज्ञानमय कोष आनंदमय कोष यह कोशों में ऊर्जा का संचार होता है। अगर व्यक्ति के स्थूल शरीर में ऊर्जा का प्रवाह कम हो जाता है तो उसकी आभामंडल कमजोर हो जाती है बीमारियों का आना आभामंडल की कमजोरी के कारण ही होता है जब आभा मंडल कमजोर हो जाता है तो बीमारियां अपना घर बना लेती है और मानव अस्वस्थ हो जाता है अगर आभामंडल को हम ऊर्जा से भर दें तो बीमारियां अपने आप दूर हो जाती हैं बीमारी स्थूल शरीर में 90 दिनों के अंतराल में आती है पहले बीमारी मानव के मन शरीर में आती है फिर प्राण शरीर में आती है उसके बाद स्थूल शरीर में आती है । अगर मानव इन शरीरों में ऊर्जा का प्रवाह करना प्रारंभ कर दें तो बीमारियां अपने आप ठीक होने लगती है ऊर्जा शक्ति बढ़ जाती है सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह तेजी से होने लगता है और असाध्य से असाध्य बीमारियां ठीक हो जाती है।